सिर दर्द दूर करने के 10 घरेलू नुस्खे – Headache Home Remedies in Hindi

सिर दर्द होना काफी आम समस्या है जो हर इन्सान को काफी न काफी हो ही जाती है।

सिर दर्द तीन प्रकार के होते हैं – टेंशन सिरदर्द, माइग्रेन सिरदर्द और क्लस्टर सिरदर्द

सिरदर्द होने के कई कारण हो सकते हैं जैसे सिर में फिजिकल चेंजेज होना, ब्लड वेसल्स का छोटा होना, असामान्य न्यूरल एक्टिविटी, जेनेटिक कारण, अत्यधिक धूम्रपान, अत्यधिक शराब का सेवन, शरीर में पानी की कमी होना, अत्यधिक सोना, दर्दनिवारक दवाओं का अधिक सेवन, आंखों या गर्दन पर जोर पड़ना।

कई लोग सिरदर्द से छुटकारा पाने के लिए दर्दनिवारक दवाओं का अत्यधिक सेवन करते है। दर्दनिवारक दवाओं के सेवन से कई साइड इफेक्ट्स होते हैं और कोई गंभीर बीमारी पनपने का खतरा बढ़ जाता है। ऐसे कई घरेलू इलाज भी मौजूद हैं जिनको अपनाकर सिरदर्द से आसानी से छुटकारा पाया जा सकता है, वो भी बिना किसी साइड इफेक्ट के।

उदाहरण के लिए, ज्यादातर सिरदर्द की समस्या डिहाइड्रेशन (शरीर में पानी की कमी) के कारण होती है। इसलिए ऐसी परिस्थिति में एक गिलास ठंडा पानी पीने से ही तुरंत राहत मिला जाती है। अपने शरीर को हाइड्रेटेड रखने के लिए दिन में कम से कम 8-10 गिलास पानी का सेवन करें।

पानी के आलावा कुछ घरेलू खाद्य पदार्थों का सेवन करने से भी सिरदर्द ठीक होता है। यहाँ सबसे कारगर घरेलू पदार्थों के बारे में दिया जा रहा है –

1. अदरक

अदरक, सिर की ब्लड वेसल्स में इन्फ्लामेशन को कम करके सिरदर्द में राहत प्रदान करता है।

  • अदरक के रस और निम्बू के रस को बराबर मात्रा में मिलाएं। इसे दिन में दो बार सेवन करें।
  • या फिर, सूखे अदरक का पाउडर जिसे सोंठ भी कहा जाता है, में पानी मिलाकर पेस्ट तैयार करें। अब इस पेस्ट को अपने माथे पर लगायें।
  • आप अदरक के पाउडर को गर्म पानी में डालकर इसकी वाष्प भी ले सकते हैं।
  • अदरक से बनी कैंडी को चूसकर खाएं।

2. पुदीना

पुदीना (menthol) में मेंथोल और मेंथोन (menthone) नामक प्राथमिक घटक पाए जाते हैं जो सिरदर्द को दूर करने में काफी फायदेमंद होते हैं।

  • पुदीना की पत्तियों का जूस निकालकर अपने माथे पर लगायें।
  • एक चम्मच जैतून के तेल में दो बूंदे पुदीना के तेल की डालकर अपने माथे की मालिश करें।

3. तुलसी

तुलसी मांसपेशियों को आराम दिलानेवाली औषधि की तरह काम करती है। इसलिए मांसपेशियों में तनाव या खिंचाव के कारण होने वाले सिरदर्द में तुलसी राहत प्रदान करती है। साथ ही इसके शांति देने वाले और एनाल्जेसिक प्रभाव भी होते हैं।

  • एक कप पानी में तीन-चार तुलसी की पत्तियां डालकर कुछ देर के लिए उबालें। अब इसमें थोड़ा सा शहद डालकर चाय की तरह पियें।
  • आप तुलसी की पत्तियों को पानी में उबालकर उसकी वाष्प भी ले सकते हैं।
  • या फिर, कुछ पत्तियों को चबाकर खाएं या तुलसी के तेल से माथे की मालिश करें।

4. लैवेंडर आयल

लैवेंडर आयल की सुखदायक गंध को सिर्फ सूंघने भर से ही टेंशन से पैदा होने वाले सिरदर्द में काफी राहत मिलती है। कई शोधों से यह पता चला है कि यह माइग्रेन के लक्षण को कम करने में भी मदद करता है।

  • लैवेंडर आयल की कुछ बूंदों को एक कपड़े पर डालकर सूंघें। आप दो कप उबलते पानी में दो बूंदे लैवेंडर आयल की डालकर वाष्प भी ले सकते हैं।
  • या फिर, एक चम्मच बादाम के तेल या जैतून के तेल में दो तीन बूंदें लैवेंडर आयल की डालकर माथे पर मालिश करें।

नोट – लैवेंडर आयल का सेवन न करें।

5. आइस पैक

बर्फ या आइस का ठंडापन, सिर के इन्फ्लामेशन को कम करने सिरदर्द में राहत देता है। साथ ही यह दर्द वाली जगह को सुन्न कर देता है जिससे दर्द की अनुभूति नहीं होती।

  • अपनी गर्दन के पीछे आइस पैक लगाने से माइग्रेन के दर्द में राहत मिलती है।
  • बर्फ डाले ठन्डे पानी में एक कपड़ा भिगोकर सिर पर पांच मिनट के लिए रखें। इसे चार-पांच दोहराएँ।

6. रोजमेरी (मेहंदी)

रोजमेरी आयल में रोजमेरिनिक एसिड (rosmarinic acid) पाई जाती है। इसमें एंटी-इन्फ्लेमेटरी प्रॉपर्टीज होती हैं जो सिरदर्द को ठीक करने में मदद करती हैं।

  • रोजमेरी आयल की कुछ बूंदों को अपने माथे पर लगाकर मालिश करें।
  • या फिर, हर्बल टी बनाकर सेवन करें। हर्बल टी बनाने के लिए एक कप उबलते पानी में एक चम्मच पिसी रोजमेरी की पत्तियां डालें। उबलते समय इसे ठक कर रखें और फर 10 मिनट के लिए ठंडा होने दें। इस टी का सेवन दिन में दो-तीन बार करें।

नोट – हाई ब्लड प्रेशर और मिर्गी (एपिलेप्सी) के मरीज रोजमेरी का उपयोग न करें।

7. लौंग

लौंग में कूलिंग और दर्द निवारक गुण होते हैं जो टेंशन के कारण हुए सिरदर्द में राहत प्रदान करते हैं।

  • कुछ लौंग को कूटकर एक साफ कपड़े में बांध लें। अब दिन में जब भी आपको सिरदर्द महसूस हो तो इस कपड़े को लम्बी-लम्बी सांसो से सूंघें।
  • या फिर, लौंग के तेल से अपने माथे की मालिश करें।

8. सेबफल (एप्पल)

सेब और सेब का सिरका, दोनों में ही शरीर के एसिड एल्कलाइन लेवल को बैलेंस करने की प्रॉपर्टीज होती हैं। शरीर में अनियमित एसिडिक या एल्कलाइन लेवल के कारण भी सिरदर्द की समस्या होती है।

  • एक सेब को नमक के साथ सेवन करें।
  • या फिर, एक गिलास पानी में दो चम्मच सेब का सिरका मिलाकर सेवन करें।

3 Responses

  1. पूनम कहते हैं:

    मेरी ममा के सिर में 10 साल से दर्द है. बहुत इलाज करवाया पर फिर भी ठीक नहीं हुई. उन्हें जुकाम भी नहीं होता है. कोई उपाय बताएं जिससे दर्द ठीक हो जाये.

  2. दुर्गेश कहते हैं:

    मेरे सर में ज्यादा जलन होती है टेंशन बढ़ जाती है और शरीर में दर्द होता है. कभी-कभी दिमाग काम नहीं करता है.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.