साइनस इन्फेक्शन ठीक करने के 10 घरेलू इलाज – Sinus Infection Home Remedies in Hindi

साइनस इन्फेक्शन ज्यादातर वायरस इन्फेक्शन की वजह से होता है, लेकिन यह बैक्टीरिया या फंगल इन्फेक्शन की वजह से भी हो सकता है। यह सर्दी-जुकाम होने पर भी हो सकता है, जिससे sinuses में सूजन होने लगती है, बलगम बनने लगता है और नाक बंद होने लगती है

Sinuses हमारी नाक के अन्दर एक खोखली और हवा से भरी हुई हड्डी होती है, जिसमें यदि कोई द्रव जमा हो जाये तो रोगाणु पनपने लगते हैं और यह रोगाणु इन्फेक्शन पैदा करने लगते हैं।

इसके आलावा अन्य परिस्थितियां जिनमें साइनस इन्फेक्शन हो सकता है वो हैं – एलर्जी, नाक जंतु (nasal polyps), पथभ्रष्ट झिल्ली (a deviated septum) और प्रदूषण या टिश्यू इर्रीटेंट्स जैसे परफ्यूम, सिगरेट, कोकीन आदि के संपर्क में आना।

साइनस इन्फेक्शन के कुछ सामान्य लक्षण हैं – सिरदर्द (headache), चेहरे में कोमलता आना (facial tenderness), दर्द या दबाव महसूस होना, नाम में उमस होना (nasal stuffiness), सफेद नाक बहना (discolored nasal discharge), गले में खराश होना (a sore throat), खांसी चलना (cough) और बुखार होना। कुछ लोगों को आगे की ओर झुकते समय अत्यधिक सेंसिटिविटी और सिरदर्द महसूस हो सकता है।

साइनस इन्फेक्शन को ठीक करने के लिए आप कुछ आसान घरेलू नुस्खे अपना सकते हैं। साथ ही, उचित निदान और उपचार के लिए अपने डॉक्टर से भी जांच करायें।

यहां पर साइनस इन्फेक्शन का इलाज करने के लिए 10 सबसे कारगर घरेलू नुस्खे दिए जा रहे हैं –

1. नाक की सिंचाई (Nasal Irrigation)

साइनस इन्फेक्शन में नाक की सिंचाई करना अत्यधिक फायदेमंद होता है, क्यूंकि इससे sinuses से बलगम और अन्य मलबा साफ हो जाता है।

  • एक गिलास गर्म पानी में एक चम्मच नमक और डेढ़ चम्मच हाइड्रोजन पेरोक्साइड मिलाएं। अब किसी बल्ब सिरिंज या किसी अन्य नाक की सिंचाई के उपकरण के जरिये इस मिश्रण से नाक की सिंचाई करें। कुछ दिनों के लिए इस उपचार को रोज एक बार करें जबतक की आपको आराम महसूस न हो। इसे दिन में एक बार से ज्यादा न करें क्यूंकि इससे म्यूकस मेम्ब्रेन में जलन हो सकती है।
  • आप गर्म पानी में एक चम्मच नमक और एक चुटकी खाने का सोडा मिलाकर भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

2. सेब का सिरका (एप्पल साइडर विनेगर)

सेब के सिरका में एंटीवायरल, एंटीबैक्टीरियल, एंटीफंगल और एंटीइन्फ्लामेट्री प्रॉपर्टीज होती हैं जो साइनस इन्फेक्शन को ठीक करने में मदद करती हैं। सर्दी-जुकाम, फ्लू या एलर्जी होने पर सेब के सिरका का सेवन करने से साइनस इन्फेक्शन को बनने से रोका जा सकता है।

  • एक कप गर्म पानी में दो चम्मच सेब का सिरका मिलाएं।
  • अब इसमें एक चम्मच शहद मिला लें और सेवन करें।
  • इस घोल का सेवन लगातार पांच दिनों के लिए रोज दिन में तीन बार करें।

3. लाल मिर्च (Cayenne Pepper)

Sinuses को खोलने और सुखाने में लाल मिर्च का इस्तेमाल काफी कारगर घरेलू उपचार होता है। साथ ही, लाल मिर्च रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती है, सूजन को कम करती है और रक्त संचार (ब्लड सर्कुलेशन) को ठीक करती है।

  • एक कप गर्म पानी में एक चम्मच लाल मिर्च मिलाएं। दिन में दो या तीन बार इसका सेवन करें।
  • या फिर, आप लाल मिर्च और शहद को मिलाकर भी सेवन कर सकते हैं।

इनमें से कोई भी एक उपचार को कुछ दिनों के लिए रोज करें जबतक की फायदा नजर न आने लगे।

4. प्याज (Onion)

बंद नाक को खोलने, sinuses को साफ करने और सर्दी-खांसी को ठीक करने के लिए प्याज काफी लाभकारी औषधि होती है। साथ ही, इसमें सल्फर कंपाउंड होता है जो बैक्टीरिया और फंगस से लड़ता है।

  • एक प्याज को छोटे-छोटे टुकड़ों में काटकर पानी के बर्तन में डाल दें।
  • अब इस पानी को 5 मिनट के लिए उबालें और इससे निकलने वाली वाष्प को लम्बी-लम्बी सांसों से सूंघें।
  • बाद में, इस पानी को छानकर पी लें।
  • रोज इस उपचार को दिन में कई बार करें जबतक कि congestion पूरी तरह से साफ न हो जाये।

5. लहसुन (Garlic)

लहसुन एक प्राकृतिक एंटीबायोटिक होता है जो बैक्टीरिया और वायरस के द्वारा फैलाये गए इन्फेक्शन से लड़ता है। बैक्टीरिया द्वारा हुए साइनस इन्फेक्शन में लहसुन अत्यधिक फायदेमंद होता है। लहसुन में एंटीफंगल प्रॉपर्टीज भी होती हैं।

  • दो-तीन लहसुन की कलियों को काटकर उबलते पानी में डाल दें। इससे निकलने वाली वाष्प को लम्बी-लम्बी सांसों से सूंघें। ऐसा दिन में दो-तीन बार करें।
  • आप रोज दो-तीन लहसुन की कलियों का सेवन भी कर सकते हैं। साथ ही, अपने भोजन में भी प्याज, लहसुन, लाल मिर्च और सहजन को शामिल करें।

6. सहजन (Horseradish)

सहजन भी साइनस इन्फेक्शन को ठीक करने के लिए काफी लोकप्रिय घरेलू नुस्खा है, क्यूंकि यह भी नाक से बलगम को साफ करने में मदद करता है।

  • कुछ ताजा कटे हुए सहजन के टुकड़ों को अपने मुंह में डालें।
  • इसे तब तक मुंह में रखें जबतक कि इसका स्वाद पूरी तरह से खत्म न हो जाये और फिर इसे निगल लें।
  • ऐसा दिन में बार-बार करें जबतक कि इन्फेक्शन पूरी तरह से खत्म न हो जाये।

7. अदरक (Ginger)

अदरक में एंटीवायरल, एंटीबायोटिक और एंटी-इन्फ्लामेट्री प्रॉपर्टीज होती हैं जो साइनस इन्फेक्शन को ठीक करने में मदद करती हैं। अदरक में polyphenols पाए जाते हैं जो बलगम के स्राव को कम करके नार्मल स्टेज में ले आते हैं। साथ ही, यह नाक में सिलिया की मात्रा को बढ़ाते हैं। सिलिया नाक के अन्दर मौजूद बालों जैसे ढांचे होते हैं जो एलर्जी वाले कणों को फिल्टर करके साइनस इन्फेक्शन से बचाते हैं।

  1. एक ताजा अदरक को स्लाइसेस में काट लें।
  2. अब इन स्लाइसेस को एक कप पानी में डालकर 10 मिनट के लिए हल्की आंच में गर्म करें।
  3. अब इसे छान लें और ऊपर से थोड़ा सा नींबू का रस और शहद मिला लें।
  4. इस चाय का सेवन दिन में दो-तीन बार करें जबतक कि साइनस इन्फेक्शन पूरी तरह से ठीक न हो जाये।

8. अजवाइन की पत्तियों का तेल (Oil of Oregano)

अजवाइन की पत्तियों के तेल में एंटीवायरल, एंटीबैक्टीरियल और एंटीफंगल गुण पाए जाते हैं। साथ ही, एक एंटी-इन्फ्लामेट्री एजेंट होने के कारण यह इन्फ्लामेशन को कम करता है। यह एक एंटीऑक्सीडेंट भी होता है और रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है।

  • डेढ़ कप उबलते पानी में दो बूंदे तेल की डालकर वाष्प को लें। इससे बलगम साफ होगा और बंद नाक खुल जाएगी। इस उपचार को रोज करें।
  • या फिर, एक गिलास पानी में तीन बूंदें तेल की डालकर सेवन करें। इसका सेवन रोज दो बार करें।
  • या फिर, तेल की एक बूंद को अपनी जीभ के अन्दर डाल लें।इसे भी रोज करें।

9. हल्दी (Turmeric)

हल्दी में एंटीबायोटिक, एंटीवायरल और एंटी-इन्फ्लामेट्री प्रॉपर्टीज होती हैं जो साइनस इन्फेक्शन और अत्यधिक बलगम के जमाव को ठीक करने में मदद करती हैं। इसमें curcumin नामक एक्टिव कंपाउंड पाया जाता है जो साइनस कैविटी में सूजन को कम करता है और वायुमार्ग को आसान बनाता है।

  • एक गिलास गर्म पानी में एक चुटकी हल्दी डालकर गरारे (gargle) करें। ऐसा दिन में दो-तीन बार करें।
  • एक गिलास गर्म दूध में एक चम्मच हल्दी मिलाकर सेवन करें। इसका सेवन रोज एक बार करें।
  • इसके आलावा, अपने भोजन में भी हल्दी को शामिल करें।

10. भाप (Steam)

भाप लेने से बंद नाक खुलती है और बलगम कम होता है। साथ ही, यह साइनस प्रेशर और सिरदर्द कम करने में भी मदद करती है।

  • बाथरूम में हॉट शावर चालू करें और इससे निकलने वाली भाप को लम्बी-लम्बी सांसों से अन्दर लें। ऐसा 10 मिनट के लिए लगातार करते रहें। इसको रोज करने से इन्फेक्शन कम होगा।
  • आप अपने चेहरे पर कुछ मिनट के लिए एक गीली गर्म टॉवल भी रख सकते हैं। ऐसा दिन में कर बार करें और रोज करें जबतक कि साइनस पूरी तरह से ठीक न हो जाये।

साइनस इन्फेक्शन का इलाज करने के लिए ऊपर दिए गए उपचारों को नियमित अपनाएं। इसके अलावा, खूब पानी पियें जिससे बलगम पतला रहेगा और आसानी से बाहर निकल जायेगा। साथ ही, पर्याप्त आराम करने से भी रिकवरी तेज होती है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.