पाचन सुधारने वाले 10 फूड्स – Foods to Help Digestion in Hindi

अत्यधिक तनाव, खानपान की गलत आदतें, वातावरण के नुकसान दायक विषाक्त पदार्थ, कुछ दवाएं और एंटीबायोटिक्स का अत्यधिक इस्तेमाल आपके पाचन के लिए अच्छा नहीं होता। पाचन हमारे शरीर की सबसे महत्वपूर्ण क्रियाओं में से एक होता है, इसलिए इसका अतिरिक्त ध्यान रखना जरूरी होता है।

पाचन को लम्बे समय तक स्वस्थ रखने के लिए संतुलित आहार और उचित मात्रा में पानी का सेवन सबसे ज्यादा जरूरी होता है। पेट फूलना, उबका, पेट दर्द आदि किसी भी पेट की समस्या से बचे रहने के लिए अपने भोजन को उचित तरीके से चुनें।

ऐसे कई खाद्य पदार्थ हैं जो पाचन को सुधारते हैं और पेट को खुश रखते हैं। यहाँ पर पाचन के लिए १० सबसे फायदेमंद पदार्थ दिए जा रहे हैं –

1. अदरक

अदरक पेट और आंत की कई समस्याओं को कारगर रूप से ठीक करने में मदद करता है। अदरक में एंटी-इंफ्लामेटरी और एंटीबैक्टीरियल प्रॉपर्टीज होती हैं, जो पेट की ऐंठन, गैस, बदहजमी, जी मचलना और फूलने की समस्या पर काबू पाने में मदद करती हैं।

  • अदरक के कुछ टुकड़ों को उबलते पानी में डालकर चाय बनायें। इस चाय का नियमित सेवन करें। अदरक की चाय लार, बाइल (bile) और गैस्ट्रिक जूस के उत्पादन को उत्तेजित करके पाचन में मदद करती है।
  • या फिर, खाने से पहले अदरक के एक छोटे टुकड़े का जूस निकाल लें और एक चम्मच शहद मिलाकर सेवन करें।

2. पुदीना

इस लोकप्रिय औषधि में एंटी-इंफ्लामेटरी और एंटीसेप्टिक गुण होने के कारण, इसे भी पाचन सुधारने में काफी फायदेमंद माना जाता है। पुदीना में मौजूद कूलिंग प्रॉपर्टीज, खराब पेट को शांत करने में और हीलिंग को बढ़ाने में मदद कर सकती हैं।

  • पुदीना की कुछ पत्तियों को अपनी सब्जी में छिड़ककर या सलाद के रूप में सेवन करें।
  • या फिर, रोज एक गिलास पानी में पुदीना के तेल की दो बूंदे डालकर सेवन करें। इसका सेवन रोज एक या दो बार करें। यह तेल आपके पेट के विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करेगा।

3. दही

पाचन तंत्र को ठीक रखने के लिए दही सबसे अच्छे खाद्य पदार्थों में से एक होता है। यह एक प्रो-बायोटिक फूड होता है, मतलब इसमें अत्यधिक मात्रा में ‘गुड’ बैक्टीरिया (lactobacilli) पाए जाते हैं जो पाचन की प्रक्रिया में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करते हैं और कई समस्याओं जैसे बदहजमी, डायरिया और कब्ज को ठीक करते हैं।

यदि आप बाजार से दही खरीद कर सेवन करना चाहते हैं तो यह ध्यान रखें कि उसके पैकेट पर “live” या “active” cultures लिखा हो। यदि इसमें फाइबर है तो और भी अच्छा है।

हमेशा सादा और बिना चीनी डाले दही का सेवन करने की कोशिश करें। यदि आपको इसका स्वाद पसंद नहीं है तो इसे मीठा बनाने के लिए शहद और फाइबर से भरपूर बेर डालकर सेवन करें।

4. शकरकंद

शकरकंद को छिलकों के साथ सेवन करने से आपके पाचन स्वास्थ्य को काफी फायदा मिलता है।

इसमें अच्छी-खासी मात्रा में डाइटरी फाइबर, कार्बोहाइड्रेट्स, विटामिन बी6, विटामिन सी और मैंगनीज पाए जाते हैं जो पाचन को सुधारने में मदद करते हैं।

शकरकंद को पेट के अल्सर जैसी कई गंभीर पाचन सम्बन्धी समस्याओं को ठीक करने में भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

शकरकंद को पचाने में आसानी होती है, क्योंकि यह मुख्य रूप से स्टार्च से बना होता है।

हाल ही में हुए एक शोध के अनुसार, शकरकंद में मौजूद cyanidins और peonidins जैसे फाइटो-केमिकल्स, पाचन तंत्र में मौजूद हैवी मेटल्स और ऑक्सीजन रेडिकल्स को कम करने में मदद करते हैं।

5. एवोकैडो (Avocado)

यह स्वस्दिष्ट फल फाइबर से भरपूर होता है, और इसमें अत्यधिक मात्रा में मोनो-सैचुरेटेड फैट्स पाए हैं जो पाचन को आसान बनाते हैं, यहाँ तक कि छोटे बच्चों में भी।

यह पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने में और अग्न्याशय, लिवर और पित्ताशय के कामकाज को ठीक करने में भी मदद करता है।

साथ ही, यह बीटा-कैरोटीन को विटामिन A में बदलता है, जो पूरे पाचन तंत्र में श्लेष्मा की मोटी परत बनाने में मदद करता है।

इसके अलावा, एवोकैडो में अत्यधिक पानी होने के कारण, यह मोटापा कम करने वाले बेस्ट फूड्स में से एक होता है।

6. जई

जई में भी भरपूर फाइबर पाया जाता है जो पाचन को सुधारता है। इसका फाइबर आंतों में रगड़ के जरिये फंसे खाने को बाहर निकालता है, जिससे शौच की नियमितता बनाये रखने में मदद मिलती है और कब्ज नहीं होता।

पढ़ें – पेट और आंत को साफ करने वाले 10 फूड्स

यह गैस्ट्रोएसोफेगल प्रतिवाह रोग (भाटापा) के लक्षण जैसे एसिडिटी और पेट की गैस को कम करने में भी मदद करता है।

साथ ही, इसमें भरपूर मात्रा में सेलेनियम, थायमिन, फॉस्फोरस, कॉपर, विटामिन ई और जिंक पाए जाते हैं जो सम्पूर्ण शरीर के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होते हैं।

इसलिए यदि आपको कोई पाचन सम्बन्धी समस्या है, तो अपने भोजन में जई को शामिल करें। आप इसको रोटी, दलिया या कूकीज बनाकर सेवन कर सकते हैं।

7. कॉड लिवर आयल

कॉड लिवर आयल, कॉड नामक मछली के लिवर से निकाला जाता है। यह पाचन सुधारने वाले सबसे अच्छे पदार्थों में से एक होता है।

इसमें एंटी-इंफ्लामेटरी ओमेगा-3 फैटी एसिड्स के साथ-साथ वसा में घुलनशील विटामिन A और D पाए जाते हैं। इसलिए, कॉड लिवर आयल इन्फ्लामेशन से लड़ने में मदद करता है और रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है, जिसके फलस्वरूप पाचन को ठीक करने में मदद मिलती है।

रोज आधा चम्मच कॉड लिवर आयल का सेवन करने से ही आपके पाचन के स्वास्थ्य में काफी बड़ा बदलाव आ सकता है।

8. सेबफल

जिन व्यक्तियों को शौच से सम्बंधित समस्याएं हैं उनके लिए सेबफल का सेवन काफी लाभदायक होता है।

सेबफल में दोनों घुलनशील और अघुलनशील फाइबर पाए जाते हैं। सेबफल के छिलकों में अत्यधिक मात्रा में cellulose नामक अघुलनशील फाइबर होता है। यह मल को मुलायम बनाने में मदद करता है, जिससे कब्ज से राहत मिलती है और शौच आसानी से होती है।

साथ ही, सेबफल में विटामिन A, विटामिन C, मिनरल्स, पोटैशियम और फॉस्फोरस भी भरपूर होते हैं जो शौच की संतुष्टि बढ़ाने में और ज्यादा मदद करते हैं।

सेबफल में पेक्टिन नामक घुलनशील फाइबर होता है, जो पाचन तंत्र में पानी को आकर्षित करता है और जेल बनाता है, जिससे पाचन धीमा होता है और आपको लंबे समय तक पेट भरा हुआ महसूस होता है। इसके फलस्वरूप, आप अत्यधिक खाने से बच जाते हैं और पाचन तंत्र पर अतिरिक्त बोझ नहीं पड़ता।

इसलिए अपने पाचन को ठीक रखने के लिए सेबफल का नियमित सेवन करें।

9. केला

शौच को नियमित रखने के लिए केला काफी महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है। दस्त की समस्या से पीड़ित व्यक्तियों के लिए यह अत्यधिक लाभकारी होता है, क्योंकि यह दस्त के दौरान कम हुए इलेक्ट्रोलाइट्स और पोटैशियम की पूर्ति करता है।

इसमें फाइबर भी भरपूर होता है, जो विषाक्त पदार्थों को सोखता है, मल की मात्रा को बढ़ाता है और शौच को ठीक करता है।

साथ ही, केला में मौजूद प्रोटीन, पाचन तंत्र के ऊतकों को रिपेयर और मेन्टेन करने में मदद करता है और कार्बोहायड्रेट के पाचन को धीमा करता है।

इसलिए रोज कम से कम एक केला का सेवन जरूर करें।

10. चुकंदर

चुकंदर भी सम्पूर्ण पाचन स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है।

इसमें अधिक मात्रा में betaine नामक पदार्थ पाया जाता है, जो पेट की एसिडिटी को बढ़ाकर नुकसानदायक बैक्टीरिया और यीस्ट को मारने में मदद करता है। साथ ही, यह खाद्य असहिष्णुता (food intolerance) को रोकता है और पेट फूलने की समस्या को कम करता है।

इसके अलावा, चुकंदर में फाइबर, पोटैशियम और मैग्नीशियम भी भरपूर होते हैं जो पाचन तंत्र को स्वस्थ बनाये रखने में मदद करते हैं और कब्जपेट दर्द जैसी समस्याओं से बचाते हैं।

आप चुकंदर को कच्चा या इसका जूस बनाकर सेवन कर सकते हैं।

निष्कर्ष

यदि आप अपने पाचन को मजबूत और स्वस्थ बनाये रखना चाहते हैं तो इन खाद्य पदार्थों का नियमित सेवन करें। आपको जरूर फायदा नजर आएगा। यदि इन पदार्थों के नियमित सेवन से भी आपकी समस्या में कोई सुधार नजर नहीं आ रहा है तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.