हार्ट अटैक के लक्षण और बचने के 7 उपाय – Heart Attack Symptoms and Prevention in Hindi

हार्ट अटैक को हिंदी में दिल का दौरा पड़ना कहा जाता है। इसे मेडिकल भाषा में रोधगलन (myocardial infarction) या तीव्र रोधगलन (acute myocardial infarction) कहा जाता है। हार्ट अटैक तब होता है जब ह्रदय में ब्लड सर्कुलेशन ठीक से होना बंद हो जाता है और इसकी मांसपेशियों को जरुरत अनुसार ऑक्सीजन न मिलने के कारण वह ठीक से काम करना बंद कर देती हैं। हार्ट अटैक होने से पहले इसके कई चेतावनी भरे संकेत मिलते हैं जिनको ठीक से पहचान कर आप इसका पता लगा सकते हैं।

हार्ट अटैक आने से पहले के संकेत (Warning Signs of Heart Attack)

महिलायों और पुरुष दोनों के लिए सबसे सबसे common हार्ट अटैक आने के संकेत निम्न हैं –

  • अचानक छाती में दर्द होना (Sudden Chest Pain): दिल का दौरा पड़ने से पहले आपको छाती के बीच में या लेफ्ट साइड में अचानक दर्द हो सकता है। ज्यादातर यह दर्द कुछ मिनट्स के लिए रहता है और फिर चला जाता है, कुछ समय बाद यह दर्द फिर से शुरू हो जाता है। इस दौरान आपको छाती में दबाव (pressure), निचोड़ (squeezing) और भरेपन (fullness) का अनुभव हो सकता है। अक्सर लोग इसे heartburn या बदहजमी की समस्या समझते हैं।
  • शरीर के ऊपरी भाग में बेचैनी या तकलीफ महसूस होना (Discomfort in Upper Body Parts): आपको अपने शरीर के ऊपरी हिस्से में दर्द या तकलीफ का अनुभव हो सकता है, जैसे हाथ, पीठ, कंधे, गर्दन, जबड़े या अन्य ऊपरी बॉडी पार्ट्स में दर्द होना।
  • सांस फूलना या साँसों में कमी आना (Shortness of Breath): दिल का दौरा पड़ने से पहले आपकी साँसे फूल सकती हैं और सांस लेने में तकलीफ महसूस हो सकती है। यह समस्या छाती में दर्द के साथ-साथ हो सकती है।
  • चक्कर आना (Dizziness): यदि आपको बार-बार चक्कर आ रहे हैं या आँखों के सामने अँधेरा छा रहा है तो तुरंत डॉक्टर के पास जाएँ क्योंकि यह हार्ट अटैक आने का शुरुआती लक्षण हो सकता है।
  • ठंडा पसीना आना (Cold Sweat): दिल का दौरा पड़ने से पहले आपको बिना किसी कारण ठंडा पसीना आ सकता है।

हार्ट आने के अन्य शुरुआती लक्षण हैं – बिना किसी कारण थकान महसूस होना, जी मिचलाना (nausea), उल्टी आना (vomiting), बेचैनी महसूस होना, अत्यधिक चिंता या मरने का भय होना और अस्वस्थ होने की सामान्य भावना महसूस होना।

चूंकि हार्ट अटैक के लक्षण हर व्यक्ति में अलग-अलग हो सकते हैं। यह लक्षण इतने अलग-अलग होते हैं कि कई तो व्यक्ति को पता ही नहीं चलता कि उसे हार्ट अटैक आने वाला है।

साथ ही, महिलायों में दिल का दौरा पड़ने से पहले छाती में दर्द होने की काफी कम सम्भावना होती है, उसमें ज्यादातर अन्य लक्षण होते हैं, जैसे असामान्य थकान (unusual fatigue), पेट की समस्याएं जैसे अपच या बदहजमी, जी मिचलाना और गर्दन, कन्धों, पीठ आदि में दर्द या दबाव महसूस होना।

हार्ट अटैक के कारण (Risk Factors of Heart Attack)

जिन लोगों को नीचे दी हुई समस्या या आदत होती है उनमें दिल का दौरा पड़ने की सम्भावना ज्यादा होती है –

हार्ट अटैक की सम्भावना को रोकने के टिप्स

दिल का दौरा पड़ना या हार्ट अटैक आना काफी घातक समस्या होती है। लेकिन आप कुछ निवारक उपाय (preventive measures) इसकी सम्भावना को कम कर सकते हैं। यहाँ पर दिला के दौरे की सम्भावना को कम करने के 10 सबसे कारगर निवारक उपाय दिए जा रहे हैं-

1. सूचित रहें (Stay Informed)

अपनी हेल्थ के प्रति ignorance रखने पर दिल की बीमारी या अन्य समस्या होने की सम्भावना काफी बढ़ जाती है। इसलिए, हार्ट अटैक को रोकने का सबसे अच्छा तरीका है इसके बारे में पूर्ण जानकारी रखना और सजग रहना।

कुछ रिस्क फैक्टर्स जैसे हाई ब्लड प्रेशर, हाई कोलेस्ट्रॉल, डायबिटीज, मोटापा, अत्यधिक शराब का सेवन, फिजिकल एक्टिविटी में कमी (जैसे आलस्य), धूम्रपान, तनाव आदि को कण्ट्रोल करके हार्ट अटैक की सम्भावना को कम किया जा सकता है।

साथ ही, यदि आपको कोई हेल्थ प्रॉब्लम है तो उसके बारे में डॉक्टर से सलाह लें और उसकी बातों का हमेशा ध्यान रखें। डॉक्टर के द्वारा दी गई मेडिसिन्स को नियम अनुसार सेवन करें।

समय के साथ-साथ हर बीमारी के इलाज के नए इलाज और मेडिसिन्स आते रहते हैं, इसलिए इसके बारे में जानकारी लेते रहें। इसके साथ ही, हमेशा अपने घर पर एक गाड़ी और ड्राईवर तैयार रखें जिससे हार्ट अटैक आने की स्थिति में तुरंत डॉक्टर के पास जाया जा सके।

2. धूम्रपान न करें (Stop Smoking)

धूम्रपान या अन्य किसी प्रकार से तंबाकू का सेवन करने से दिल की बीमारी होने की सम्भावना बढ़ जाती है। 2009 में journal Atherosclerosis में पब्लिश हुई एक रिपोर्ट के अनुसार दिल के मरीज यदि धूम्रपान छोड़ दें तो उनके जल्दी ठीक होने की प्रक्रिया काफी बढ़ जाती है और हार्ट अटैक आने की सम्भावना काफी कम हो जाती है।

तंबाकू में हार्मफुल केमिकल्स होते हैं जो ब्लड सेल्स को डैमेज कर देते हैं, जिसके फलस्वरूप दिल के कामकाज और ब्लड वेसल्स पर बुरा असर पड़ता है। इसके साथ ही, धूम्रपान करने से फेफड़े की बीमारी (lung disease), परिधीय संवहनी रोग (peripheral vascular disease) और स्ट्रोक होने की सम्भावना भी बढ़ जाती है।

दिल या फेफड़ों से सम्बंधित कोई भी समस्या होने पर बिलकुल भी धूम्रपान न करना ठीक होता है। इसलिए यदि आप धूम्रपान करते हैं तो आज ही इसे छोड़ दें।

3. दिल के लिए फायदेमंद आहार का सेवन करें (Follow a Heart-Healthy Diet)

दिल के लिए फायदेमंद डाइट का सेवन करने से हार्ट अटैक की सम्भावना काफी कम हो जाती है। यहाँ तक कि उचित भोजन का सेवन करने से आप किसी भी प्रकार की हार्ट प्रॉब्लम से बच सकते हैं। पोषक तत्वों से युक्त खाद्य पदार्थ जिनमें विटामिन, मिनरल्स, फाइबर और अन्य पोषक पदार्थ भरपूर मात्रा में हों और कैलोरीज कम हों, का अधिक सेवन करें।

  • रोज कम से कम 5 प्रकार की सब्जियां और 2 प्रकार के फलों का सेवन करें।
  • अपने नाश्ते में हाई फाइबर वाले अनाज का सेवन करें।
  • अनाज, फलियां और साबुत अनाज से युक्त खाद्य पदार्थों का अधिक सेवन करें और अधिक फैट वाले पदार्थों को न खाएं।
  • हफ्ते में कम से कम दो बार कोल्ड-वाटर फिश जैसे सैल्मन (salmon) और टूना (tuna) का सेवन करें।
  • हाई-फैट और हाई-शुगर वाले पदार्थों को न खाएं और नमक के सेवन को कम करें।
  • हेल्थी कुकिंग आयल जैसे जैतून(olive), सूरजमुखी (sunflower) और कुसुम (safflower) के तेल का इस्तेमाल करें।
  • अत्यधिक तले-भुने खाने की जगह उबले खाने का सेवन करें।

4. नियमित व्यायाम करें (Exercise Daily)

नियमित व्यायाम करने से रक्त का संचार ठीक रहता है और हार्ट अटैक आने की सम्भावना काफी कम होती है। इसलिए जितना आप जितना ज्यादा एक्सरसाइज करेंगे उतना ही आपका हार्ट हेल्थी रहेगा।

नियमित एक्सरसाइज करने से हार्ट के लिए कई फायदे होते हैं जैसे मोटापा, ब्लड प्रेशर और हाई कोलेस्ट्रॉल कम होता है। आप रोज कम से कम 30 मिनट के लिए जॉगिंग, तैराकी, टहलना, योग आदि करके अपने ह्रदय को स्वस्थ रख सकते हैं।

5. मोटापे को नियंत्रित रखें (Maintain Healthy Body Weight)

शरीर का अधिक मोटा होने पर, खासतौर से कमर में अधिक फैट होने पर हाई कोलेस्ट्रॉल, हाई ब्लड प्रेशर और इंसुलिन प्रतिरोध (insulin resistance) की सम्भावना काफी बढ़ जाती है। यह सभी समस्याएं दिल की बीमारी का कारण बनती हैं।

आप अपने शरीर के BMI को नापकर अपने मोटापे का अनुमान लगा सकते हैं। 18.5 और 25 के बीच का BMI हेल्थी होता है। यदि आपका BMI 30 से ऊपर है तो आप मोटापे के शिकार हैं।

साथ ही, जिन पुरुषों की कमर का नाप 40 इंच से अधिक और जिन महिलायों की कमर का नाप 35 इंच से अधिक होता है, वह मोटापे का शिकार होते हैं।

यदि आप पहले से ही मोटापे के शिकार हैं तो मोटापा कम करने के उपाय करें। वजन कम करने की प्रक्रिया को धीरे-धीरे करें और अत्यधिक डाइटिंग से बचें। इसके लिए आप एक्सपर्ट की सलाह भी ले सकते हैं।

6. तनाव या डिप्रेशन को कम करें (Control Your Stress Level)

2014 में यूनिवर्सिटी ऑफ पिट्सबर्ग में हुई एक स्टडी के अनुसार तनाव, चिंता और डिप्रेशन के कारण ह्रदय के कामकाज पर बुरा असर पड़ता है और हार्ट अटैक आने की सम्भावना बढ़ जाती है। तनाव के कारण मन में नकारात्मक भावनाएं बढ़ने लगती हैं जिससे शरीर में साइटोकिन्स (cytokines) नामक केमिकल कंपाउंड्स की मात्रा बढ़ जाती है। साइटोकिन्स प्रो-इंफ्लामेट्री केमिकल्स होते हैं जो दिल की बीमारी होने की सम्भावना को बढ़ा देते हैं।

साथ ही, तनाव से ग्रसित लोगों को अक्सर अन्य बुरी आदतें जैसे धूम्रपान, अत्यधिक शराब का सेवन और अनियमित खानपान की लत हो जाती हैं।

यदि आपको तनाव या डिप्रेशन है तो इसके कारण का पता लगायें और उस कारण को ज्यादा से ज्यादा अवॉयड करने की कोशिश करें। अपने मन में नकारात्मक भावनायों को आने से रोकने का सबसे अच्छा उपाय है, अपनेआप को ज्यादा से ज्यादा व्यस्त रखना और नियमित योग और मैडिटेशन करना।

7. पूरी नींद लें

नींद की कमी के कारण शरीर के सम्पूर्ण स्वास्थ्य पर काफी बुरा असर पड़ता है। जिन लोगों को नींद न आने की समस्या होती है या सोते समय बार-बार सांस फूलती है, उनमें फेफड़े और धमनियां डैमेज होने की सम्भावना काफी बढ़ जाती है। इसके फलस्वरूप हार्ट अटैक, हाई ब्लड प्रेशर और कोंजेस्टिव हार्ट फेल होने की सम्भावना भी काफी बढ़ जाती है।

ज्यादातर वयस्क लोगों को 6 से 8 घंटों की नींद जरूरी होती है।

आप अपनी नींद को बढ़ाने के लिए कुछ आसान तरीके अपना सकते हैं, जैसे सोने का एक निश्चित टाइम टेबल बनाना, सोने से पहले कैफीन (चाय, कॉफ़ी आदि) का सेवन न करना, नियमित व्यायाम, योग और मैडिटेशन करना। यदि आपको फिर भी सोने में परेशानी होती है तो अपने डॉक्टर से उचित जाँच कराएँ।

20 Responses

  1. सोना कहते हैं:

    सर मेरे को 15-20 दिन से सीने में जलन और लेफ्ट हैण्ड के काम न करने जैसी समस्या हो रही है और थकान और उल्टी जैसा हाल हो रहा है. दर्द की प्रॉब्लम भी हो रही है.

  2. बिरजू पंडित कहते हैं:

    मेरे सीने में दर्द हो रहा है मैं क्या करूँ मुझे कुछ उपाय बताएं.

  3. monu कहते हैं:

    Mara left side pain ha magar jaisa halka sa hilta ho too chuban shee hoti ha

  4. Abhay कहते हैं:

    Mere chest mein heart ke Wanha dard ho raha hai, nind nahi arahi hai, hatpav thande pad rahe hai, doctor ko dikhaya test b12 aur d3 vitamin ki matra Kam hai

  5. शमशी कहते हैं:

    मेरे चेस्ट के मिडिल पॉइंट में दर्द होता है, हर वक्त होता रहता है, बहुत दिनों से लगभग एक साल से. मुझे लगता है गैस और कब्ज की वजह है, मुझे क्या करना चाहिए?

  6. राजेश कहते हैं:

    मेरा नाम राजेश है, मैं अपने शरीर और पूरी बॉडी में आलस्य महसूस करता हूँ, मुझे क्या करना चाहिए, मुझे एक बार दौरा भी पड़ चूका है.

  7. शाहनवाज कहते हैं:

    लेते हुए कभी-कभी दिल में दर्द होता है, ऐसा क्यूँ होता है.

  8. श्री रामचन्द्र शर्मा कहते हैं:

    मेरे पिताजी को हार्ट की बीमारी है, उनके चेस्ट में कभी-कभी ज्यादा दर्द होने लगता है.

  9. मोहिनी कहते हैं:

    डॉक्टर से सलाह लीजिये आप, नेट पर क्या पूछ रहे हैं, अगर आपको इतनी प्रॉब्लम है तो डॉक्टर को जल्द से जल्द दिखाएं.

  10. रमेश कहते हैं:

    मेरे चेस्ट में नस बाहर आने लगी है और वो मोटा हो गया है और हल्का दर्द रहता है इसका कोई उपाय.

  11. दिलीप कहते हैं:

    मुझे रात मे कम नींद आता है

  12. सुनीता वर्मा कहते हैं:

    छाती के बीच में अचानक दिल कांपना घबराहट सी होना हाथ-पैर मे कमजोरी महसूस होना यह किस तरह की बीमारी के लक्षण है। कृपया उपाय बताये ।

  13. प्रतिभा कुमकुम कहते हैं:

    मुझे chest में pain होता है और कभी-कभी साँस नहीं ले पाती हूँ, चक्कर आने लगते हैं चलने पर. और कभी-कभी तो ऐसा लगता है कि मर जाउंगी.

  14. रशीद अंसारी कहते हैं:

    सर मेरे को तीन दिन से हार्ट के आसपास दर्द हो रहा है वो भी कभी-कभी, मेरे को क्या करना चाहिए. प्लीज सर reply दें इंसानियत के नाते.

  15. सुदेश कश्यप कहते हैं:

    डॉक्टर ने मुझे पहला अटैक आय चुका है ऐसा बोला है अब मुझे क्या करना चाहिए कि मुझे कोई दूसरा अटैक ना आये और इस रोग से मुक्ति मिल जाये plz हेल्प करो

  16. राजकुमार कहते हैं:

    पेट में दर्द रहता है और ठण्ड महसूस होती है, क्या यह हार्ट अटैक के लक्षण हैं?

  17. दिवाकर कहते हैं:

    मुझे सांस लेने में बहुत प्रॉब्लम होती है और खास कर धुप में बहुत ज्यादा सीने में दर्द होता है. कभी-कभी तो जोर से साँस लेना पड़ता है तब ऐसा लगता है अभी साँस बंद हो जायेगा कुछ उपाय हों तो बता दीजिये.

  18. शाजिया कहते हैं:

    दिल की नसें ब्लॉक होने का पता कैसे और कितने दिन में चलता है. अगर किसी को ये प्रॉब्लम है तो ऑपरेशन ही होना जरूरी है क्या?

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.