हल्दी के 10 स्वास्थ्य फायदे – Turmeric Health Benefits in Hindi

हल्दी काफी सुलभ औषधि है जो लगभग हर घर में उपलब्ध होती है। इसे अक्सर ‘मसालों की रानी भी’ कहा जाता है। इसकी काली मिर्च की तरह सुगंध होती है, तेज स्वाद होता है और गोल्डन पीला कलर होता है।

शोधकर्ताओं के मुताबित हल्दी में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट, एंटीवायरल, एंटीबैक्टीरियल, एंटीफंगल, कैंसररोधी, antimutagenic (डीएनए के असामान्य म्युटेशन को रोकने वाली) और एंटी-इन्फ्लामेट्री प्रॉपर्टीज होती हैं।

इसमें कई पोषक पदार्थ जैसे प्रोटीन, डाइटरी फाइबर, नियासिन, विटामिन C, विटामिन E, विटामिन K, पोटैशियम, कैल्शियम, कॉपर, आयरन, मैग्नीशियम और जिंक भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। इन सब गुणों से भरपूर होने के कारण हल्दी कई स्वास्थ्य समस्याओं में फायदेमंद होती है।

यहां पर स्वास्थ्य के लिए हल्दी के टॉप 10 फायदे दिए जा रहे हैं –

1. कैंसर को रोकती है (Prevents Cancer)

हल्दी प्रोस्टेट कैंसर को बनने से रोकती है, पहले से मौजूद प्रोस्टेट कैंसर की ग्रोथ को रोकती है और कई मामलों में यह कैंसर सेल्स को नष्ट भी करती है। कई शोधों से यह पाता चला है कि हल्दी रेडिएशन के कारण बनने वाले ट्यूमर से प्रोटेक्ट करती है। साथ ही, हल्दी ट्यूमर सेल्स जैसे T-cell leukemia, colon carcinomas और breast carcinomas को बनने से रोकती है।

2. गठिया में राहत प्रदान करती है (Relieves Arthritis)

हल्दी में एंटी-इन्फ्लामेट्री प्रॉपर्टीज होती हैं जो पुराने गठिया रोग और संधिशोथ के इलाज में काफी फायदेमंद होती हैं। साथ ही, हल्दी में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट प्रॉपर्टीज शरीर में सेल्स को डैमेज करने वाले फ्री रेडिकल्स को खत्म करती हैं। कई शोधों से यह साबित हो चुका है कि संधिसोध के मरीज यदि हल्दी का नियमित करें तो उनके जोड़ों के दर्द और सूजन में काफी राहत मिलती है।

3. मधुमेह को नियंत्रित करती है (Controls Diabetes)

हल्दी इन्सुलिन लेवल को ठीक करके मधुमेह को नियंत्रित करने में मदद करती है। यह ग्लूकोस लेवल को भी ठीक करती है और शरीर में डायबिटीज की मेडिसिन्स के प्रभाव को बढ़ाती है। हल्दी का एक और सबसे बड़ा फायदा यह है कि यह इन्सुलिन रेसिस्टेंस को कम करती है जिससे टाइप-2 डायबिटीज को रोकने में मदद मिलती है। लेकिन यदि हल्दी को स्ट्रोंग मेडिसिन्स के साथ लिया जाये तो इसके कारण लो ब्लड शुगर (हाइपोग्लाइसीमिया) की समस्या हो सकती है। इसलिए डायबिटीज की मेडिसिन्स के साथ हल्दी का सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह लें।

4. कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करती है (Reduces Cholesterol Level)

शोधों से यह साबित हो चुका है कि अपने भोजन में हल्दी का नियमित सेवन करने से सीरम कोलेस्ट्रॉल लेवल में काफी कमी आती है। यह तो सभी जानते ही हैं कि हाई कोलेस्ट्रॉल लेवल के कारण कई सीरियस हेल्थ प्रॉब्लम्स हो सकती हैं। कोलेस्ट्रॉल लेवल को मेन्टेन रखने से कई दिल की बीमारियाँ दूर रहती हैं।

5. रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती है (Boost Immunity)

हल्दी में lipopolysaccharide नामक पदार्थ पाया जाता है जो शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है। साथ ही, इसमें मौजूद एंटीबैक्टीरियल, एंटीवायरल और एंटीफंगल एजेंट भी इम्युनिटी बढ़ाने में मदद करते हैं। इम्युनिटी ठीक रहने से सर्दी-जुकाम, फ्लू और खांसी होने की सम्भावना कम हो जाती है। इसलिए इन बीमारियों से दूर रहने के लिए रोज एक गिलास गर्म दूध में एक चम्मच हल्दी मिलाकर सेवन करें।

6. चोट जल्दी भरने में मदद करती है (Heals Wound)

हल्दी एक प्राकृतिक एंटीसेप्टिक और एंटीबैक्टीरियल एजेंट होती है जो इन्फेक्शन को खत्म करने में मदद करती है। यदि आपको कोई कट या जलने का घाव लग गया हो तो आप हल्दी लगाकर हीलिंग प्रोसेस को तेज कर सकते हैं। हल्दी डैमेज स्किन को रिपेयर करने में भी मदद करती है और सोरायसिस और अन्य स्किन कंडीशन्स को ठीक करने में मददगार होती है।

7. वजन मैनेज करने में मदद करती है (Weight Management)

शरीर के आदर्श वजन को बनाये रखने में और मोटापा को कंट्रोल करने में भी हल्दी काफी उपयोगी होती है। हल्दी शरीर में बाइल (bile) के फ्लो को बढ़ाती है, जो डाइटरी फैट को ब्रेक करने में एक अहम भूमिका अदा करता है। यदि आप अपना वजन कम करना चाहते हैं और मोटापे के कारण होने वाली बीमारियों से बचना चाहते हैं तो रोज अपने भोजन में एक चम्मच हल्दी मिलाकर सेवन करें।

8. अल्जाइमर रोग को रोकती है (Prevents Alzheimer’s Disease)

अल्जाइमर रोग एक भूलने की बीमारी है जो दिमाग में इन्फ्लामेशन के कारण होती है। हल्दी दिमाग में plaque build-up को साफ करती है और ऑक्सीजन के संचारको बढ़ाती है।

इसलिए हल्दी अल्जाइमर रोग को बनने से रोकती है और पहले मौजूद अल्जाइमर को और नहीं बढ़ने देती।

9. पाचन शक्ति बढ़ाती है (Improves Digestion)

हल्दी पेट में बाइल के प्रोडक्शन को बढ़ाती है जिससे पाचन ठीक रहता है और पेट की गैस, कब्ज और अपच की समस्या में राहत मिलती है। लेकिन ध्यान रखें, जिन लोगो को कोई भी पित्ताशय की बीमारी है वो हल्दी का सेवन न करें, क्यूंकि इसके कारण स्थिति और ज्यादा बिगड़ सकती है।

यदि आपको पाचन से संबंधित कोई भी समस्या हो तो नियमित हल्दी का सेवन करें या इसके सप्लीमेंट लें।

10. लिवर की बीमारियों से बचाती है (Prevents Liver Disease)

हल्दी एक नेचुरल लिवर detoxifier होती है। लिवर एंजाइम्स के जरिये रक्त में से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालता है, और हल्दी इन एंजाइम्स के प्रोडक्शन को बढ़ा देती है। साथ ही, हल्दी को रक्त संचार बढ़ाने में भी लाभकारी माना जाता है। इसलिए हल्दी का नियमित सेवन करने से लिवर स्वस्थ रहता है और बीमारियों से बचा रहता है।

हल्दी के इतने सारे स्वास्थ्य लाभ होने के कारण, इसे नियमित रूप से सेवन करना चाहिए। इसे आप पाउडर के रूप में अपने भोजन में मिलाकर या सलाद में डालकर सेवन कर सकते हैं। इसके अलावा हल्दी के कैप्सूल्स भी मेडिकल स्टोर पर उपलब्ध होते हैं, इनका सही डोज जानने के लिए अपने डॉक्टर से सलाह लें।

नोट – जिन लोगों को पित्ताशय की पथरी (gallstones) या पित्त रुकावट (bile obstruction) की समस्या है वह हल्दी का सेवन न करें।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.